हल्द्वानी में पैरामेडिकल की नकली डिग्री थमाने वाला गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। पैरामेडिकल कोर्स के नाम पर बच्चों को फर्जी डिप्लोमा देने वाले संचालक को काठगोदाम पुलिस ने कमलुवागांजा के पास से गिरफ्तार कर लिया है। एमडी समेत उसकी पत्नी व एक अन्य महिला कर्मी पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज की है। आरोप है कि एमडी ने 58 छात्रों को फर्जी डिग्री थमा कर उनसे 58 लाख रुपये हड़प लिए। आरोपी संचालक के खिलाफ कार्रवाई कर सलाखों के पीछे भेज दिया। जानकारी के अनुसार गुरूवार को पुलिस बहुउद्देशीय भवन में इस फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए एसएसपी प्रहृलाद नारायण मीणा ने बताया कि इस मामले में 11 अक्टूबर को मयूर विहार बड़ी मुखानी निवासी हिमांशु नेगी पुत्र गोपाल सिंह नेगी ने काठगोदाम थाने में मुकदमा दर्ज कराया था।

हिमांशु का आरोप था कि उसने 58 अन्य छात्र-छात्राओं ने खेड़ा गौलापार स्थित दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट में एडमिशन लिया था। सभी को दो साल का कोर्स कराया गया और फिर फर्जी मार्कशीट और डिग्री दे दी गई। बात में पता लगा कि सभी सर्टीफिटेक नकली हैं। पुलिस ने मामले की जांच की तो पता लगा कि प्रकाश ने डीपीएमआई से फ्रेंचाइजी ली थी, लेकिन बच्चों की पफीस न जमा करने की वजह से वर्ष 2018 में फ्रंेंचाइजी वापस ले ली गई।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में उत्तराखण्ड बेरोज़गार संघ के अध्यक्ष बॉबी ने युवाओं को राजनीतिक लड़ाई के लिए तैयार रहने को कहा

बावजूद इसके प्रकाश बच्चों का दाखिला लेता रहा और फीस भी। कुछ बच्चों ने जब नौकरी से लिए आवेदन किया तो मार्कशीट और डिग्री के फर्जी होने का पता चला। इस मामले में धारा 420 के तहत केस दर्ज किया था और पुष्टि होने के बाद पुलिस ने धारा 467 और 468 बढ़ाते हुए प्रकाश मेहरा को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस टीम में थानाध्यक्ष विमल कुमार मिश्रा, एसआई मनोज कुमार और कांस्टेबल सुरेन्द्र सिंह थे।

Ad