घृणित मानसिकता के लोगों को संत कहना संतों का अपमानः डिंपल पांडे

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। ‘धर्म संसद’ से लेकर ‘बुल्ली बाई’ ऐप तक हमारे देश में लोगों की मानिसकता इतनी घृणित हो चुकी है वो ना सिर्फ अधर्म के रास्ते पर चल दिए हैं बल्कि महिलाओं तक का सम्मान नहीं किया जा रहा। समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष डिंपल पांडे ने जारी बयान में कहा है कि धर्म संसद में जिन्हें हम संत कहते हैं उन लोगों ने दूसरे धर्म को गाली देकर ना सिर्फ अपने धर्म का अपमान किया है बल्कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री को गोली मार देना चाहिए कहकर अपनी नग्न सोच का भी प्रदर्शन किया है। डिंपल पांडे ने कहा कि सनातन धर्म यह नहीं सिखाता कि दूसरे धर्म बुरे होते हैं। देश में एक तरह की घृणित मानसिकता के लोग दुनियाभर में भारतीय संस्कृति और भारतीय धर्म की छवि को ठेस पहुंचा रहे हैं। जिससे भारत की छवि ना सिर्फ धूमिल हो रही है बल्कि हमार देश का लोकतंत्र भी शर्मसार हो रहा है। जिसे सभ्य समाज किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं कर सकता। भारतीय संस्कृति और धर्म के विनाषकों पर देश और राज्य की सरकारों को सख्त कार्यवाही करनी चाहिए। उन्होने कहा कि इसी प्रकार से बुल्ली बाई नामक ऐप पर महिलाओं का पफोटो डालकर ‘डील’ करने वालों पर ऐसी कड़ी सजा मिलनी चाहिए जिससे कि भविष्य में कोई भी इस तरह का कृत्य करने से पहले सौ बार सोचे। उन्होने इस बात पर भी अफसोस जताया कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाले देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बेटियों के अपमान पर चुप्पी साध लेते हैं।

Ad
यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में कल रूट डायवर्जन, भाजपा-कांग्रेस के बड़े नेताओं के प्रोग्राम हैं