ममता बनर्जी को झटका, TMC सांसद महुआ मोइत्रा को लेकर आई बड़ी खबर

ख़बर शेयर करें -

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा की लोकसभा सदस्यता रद्द कर दी गई है। यह कदम संसदीय एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट के बाद उठाया गया। शुक्रवार को कमेटी ने टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा से जुड़े कैश फोर क्वेरी मामले की रिपोर्ट लोकसभा में पेश की। जैसे ही रिपोर्ट सदन के पटल पर रखी गई वैसे ही विपक्षी सांसदों ने हंगामा शुरू कर दिया। उधर, महुआ मोइत्रा ने भी इसका विरोध किया। हंगामा बढ़ा तो संसद की कार्यवाही 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

दो बजे सदन शुरू हुआ तो घंटेभर की चर्चा के बाद सदन ने मोइत्रा की संसद सदस्यता खत्म करने की सिफारिश ध्वनिमत से स्वीकार कर ली। इसके बाद लोकसभा स्पकीर ने उनकी सदस्यता खत्म करने का ऐलान कर दिया। बता दें कि शुक्रवार को लोकसभा में एथिक्स कमेटी ने महुआ के खिलाफ जांच रिपोर्ट को पेश किया था जिसके बाद ये कार्रवाई की गई। भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने अपनी शिकायत में मोइत्रा पर उपहार के बदले व्यवसायी दर्शन हीरानंदानी के इशारे पर अडानी समूह और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने के लिए लोकसभा में सवाल पूछने का आरोप लगाया था। दुबे ने कहा कि आरोप सुप्रीम कोर्ट के एक वकील के पत्र पर आधारित थे जो उन्हें मिला था, जिसमें मोइत्रा और व्यवसायी के बीच ष्रिश्वत के लेन-देन के कई सबूत मौजूद हैं।

यह भी पढ़ें 👉  भाजपा के मुस्लिम नेता ने पीएम के ‘घुसपैठिया’ बयान को गलत बताया, पार्टी ने निकाला, पुलिस ने हिरासत में ले लिया

बीजेपी के सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला को पत्र लिखकर महुआ मोइत्रा पर पैसे लेकर सवाल पूछने का आरोप लगाया था। अपनी शिकायत में उन्होंने आरोप लगाया था कि महुआ मोइत्रा ने रियल एस्टेट कारोबारी दर्शन हीरानंदानी के व्यवसायिक हितों की रक्षा के लिए सवाल पूछे। उनका आरोप था कि महुआ मोइत्रा ने हीरानंदानी के इशारे पर 61 सवालों में 50 में अंबानी और अडानी को टारगेट किया। लोकसभा अध्यक्ष ने यह मामला एथिक्स कमेटी के पास भेज दिया। बीजेपी सांसद विनोद सोनकर की अध्यक्षता वाली एथिक्स कमेटी ने इसकी जांच शुरू की तो बवाल बढ़ता गया।

यह भी पढ़ें 👉  वीवीपैट और बैलेट पेपर को लेकर सुप्रीमकोर्ट से बड़ी खबर

महुआ मोइत्रा ने संसदीय कमेटी पर अनर्गल सवाल पूछने के आरोप भी लगाए। मामला तब बिगड़ गया, जब पूछताछ में कारोबारी दर्शन हीरानंदानी ने खुलासा किया कि महुआ मोइत्रा ने अपनी संसद लॉगिन और पासवर्ड उनके साथ साझा किया था। उन्होंने महुआ की ओर से सवाल पोस्ट किए थे। एथिक्स कमेटी ने 6-4 के बहुमत से महुआ मोइत्रा की संसद सदस्यता खत्म करने की सिफारिश कर दी। बता दें कि मूल रूप से बंगाली ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखने वाली महुआ मोइत्रा की प्रारंभिक शिक्षा कोलकाता में हुई। इसके बाद परिवार अमेरिका में बस गया। मैसाचुसेट्स से मैथ्स और इकनॉमिक्स में ग्रैजुएशन के बाद महुआ मोइत्रा ने बैंकर के तौर पर अपना कैरियर शुरू किया। इसके बाद वह जेपी मॉर्गन की वाइस प्रेजिडेंट बनीं। इस दौरान वह कुछ समय तक डेनमार्क में भी रही। इसी बीच वह राहुल गांधी के व्यक्तित्व से आकर्षित हुई और कांग्रेस ज्वांइन कर ली। पहले वह विधायक बनी, फिर उसे बाद सांसद।

Ad