zafar sureshwala….प्रधानमंत्री मोदी के बेहद करीबी ज़फर सुरेशवाला ने मुसलमानों को लेकर दिया बड़ा बयान, कहा-भारतीय मुस्लिमों को……………..

ख़बर शेयर करें -

एक समय था जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो उनके सबसे बड़े आलोचकों में जफर सुरेशवाला का नाम टॉप पर था। आज वो समय है जब उन्हीं जफर सुरेशवाला का नाम मोदी के प्रशंसकों की टॉप लिस्ट में है। हम बात कर रहे हैं भारतीय बिजनेसमैन जफर सरेशवाला की। जिन्होने सऊदी अरब में एक ऐसा बयान दिया है जिसपर भारतीय मुसलमानों को गौरो फिक्र करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा है कि भारतीय मुस्लिमों को पीड़ित मानसिकता से बाहर आना चाहिए और शिक्षा पर फोकस करना चाहिए। खास बात ये है कि जफर सरेशवाला ने सऊदी अरब में ये बातें कही। मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी के पूर्व चांसलर जफर सरेशवाला ने सऊदी अरब के शहर जेद्दा में एक कार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में कहा कि भारत में मुस्लिमों के साथ भेदभाव होता है लेकिन यह कुछ तत्वों द्वारा ही किया जाता है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी प्रकरण को लेकर मुख्यमंत्री से मिला कांग्रेस शिष्टमंडल करी ये मांग

भारतीय मुस्लिमों को भेदभाव को लेकर शिकायतें करने की बजाय शिक्षा पर फोकस करने की जरूरत है। समुदाय हमेशा आंदोलनरत नहीं रह सकता और उसे पीड़ित होने की सोच भी छुटकारा पाने की जरूरत है। जफर सरेशवाला ने कहा कि मुस्लिमों को ना सिर्फ शिक्षा बल्कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और तकनीकी शिक्षा पर फोकस करना चाहिए। सरेशवाला ने कहा कि वह समय गया, जब ग्रेजुएट की डिग्री लेना ही काफी होता था। अब दुनिया आगे बढ़ चुकी है और आपको अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ होने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी प्रकरण को लेकर मुख्यमंत्री से मिला कांग्रेस शिष्टमंडल करी ये मांग

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारतीय बिजनेसमैन ने जेद्दा में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि भारतीय मुस्लिमों को सिविल सेवा परीक्षाओं में भाग लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर आप रेस में शामिल ही नहीं होंगे तो आप जीतने की उम्मीद कैसे कर सकते हैं। सरेशवाला ने कहा कि सिविल सेवाओं में मुस्लिमों की भागीदारी का प्रतिशत बहुत कम है। सरेशवाला ने ये भी कहा कि हमें अपने हिंदू भाई-बहनों से बात करने और उनके सामने अपनी अच्छी इमेज पेश करनी की कोशिश करनी चाहिए, जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे, तब तक संघर्ष होता रहेगा।

Ad