haldwani–इतना बड़ा अफसर तीन हज़ार रुपये की घूस लेते हुए पकड़ा गया

ख़बर शेयर करें -

नैनीताल। विजिलेंस की टीम ने जीरो टॉलरेंस को लेकर की गई कार्यवाही के तहत राज्य कर विभाग में तैनात राज्य कर अधिकारी और डाटा एंट्री ऑपरेटर को तीन हजार रूपये की रिश्वत के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। राज्य कर विभाग में जीएसटी पंजीकरण के नाम पर अधिकारी प्रति फाइल पास करने के नाम पर तीन हजार की रिश्वत की मांग कर रहे थे। जिससे परेशान भीमताल निवासी शिकायतकर्ता मनोज जोशी ने आठ दिन पूर्व जीएसटी पंजीकरण में कार्यालय में लेनदेन की शिकायत की थी। पीड़ित की शिकायत थी कि उसका पंजीकरण घूस नहीं देने के कारण लंबे समय से लटकाया जा रहा है।

प्राथमिक जांच के बाद मंगलवार को दोपहर करीब एक बजे विजिलेंस की नौ सदस्यीय टीम राज्य कर विभाग पहुंची। जहां टीम ने कार्यालय में उपनल के माध्यम से तैनात डाटा एंट्री ऑपरेटर दीपक मेहता को तीन हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। जांच में कार्यालय में ही तैनात राज्य कर अधिकारी की भी संलिप्तता सामने आई। विजिलेंस की प्राथमिक जांच के आधार पर टीम ने राज्य कर अधिकारी उमेद सिंह को भी गिरफ्तार किया है। घंटों चली जांच प्रक्रिया के बाद शाम को एसपी विजिलेंस प्रहलाद मीणा भी मौके पर पहुंच गए। एसपी ने बताया कि शिकायतकर्ता के प्रार्थना पत्र के आधार पर राज्य कर अधिकारी उमेद सिंह डाटा एंट्री ऑपरेटर दीपक मेहता को रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में उत्तराखण्ड बेरोज़गार संघ के अध्यक्ष बॉबी ने युवाओं को राजनीतिक लड़ाई के लिए तैयार रहने को कहा

दोनों कर्मियों के हल्द्वानी स्थित घर पर भी टीम तलाशी और जांच कर रही है। बरामदगी होने पर कार्रवाई की है। इस मौके पर टीम में प्रह्लाद मीणा पुलिस अधीक्षक सतर्कता अधिष्ठान हल्द्वानी निरीक्षक, मनोहर सिंह निरीक्षक भानु प्रताप आर्य निरीक्षक ललिता पांडे हेड कांस्टेबल जगदीश बोरा कांस्टेबल नवीन चंद्र थे।

Ad