आईटीसी ने पांच हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव दिया, उत्तराखण्ड में औद्योगिक घरानों के रुझान से धामी सरकार गदगद

ख़बर शेयर करें -

देश के चोटी के औद्योगिक घरानों के उत्तराखंड में निवेश के रुझान से धामी सरकार बेहद उत्साहित है। सरकार ने दिसंबर में होने वाले वैश्विक निवेशक सम्मेलन से पहले 30 हजार करोड़ रुपये तक निवेश की ग्राउंडिंग करने की जो योजना बनाई है, उस दिशा में सरकार ने मजबूती से कदम रख दिए हैं। सम्मेलन के लिए नई दिल्ली में हुए कर्टेन रेजर के दौरान आईटीसी, महिंद्रा हॉलीडेज और ई-कुबेर सरीखे नामी औद्योगिक घरानों ने उत्तराखंड में निवेश की न सिर्फ इच्छा जाहिर की है, बल्कि 7600 करोड़ निवेश के प्रस्ताव तक दे दिए हैं।

माना जा रहा है कि पिछले कई महीनों से सरकार औद्योगिक घरानों को निवेश के लिए आकर्षित करने के जो प्रयास कर रही है, वे रंग लाते दिखाई दे रहे हैं। दिसंबर माह में प्रस्तावित वैश्विक निवेशक सम्मेलन में सरकार ने 2.50 लाख करोड़ निवेश का लक्ष्य रखा है। औद्योगिक विकास के लिए सरकार की प्रोत्साहन नीतियां और उत्तराखंड की आवोहवा बड़े उद्योग घरानों को लुभा रही है। दिल्ली में हुए कर्टेन रेजर में राज्य में निवेश को लेकर निवेशकों का बेहतर रुझान दिखाई दिया।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल से शुरू हुईं निकाय चुनाव की तैयारियां, संवेदनशील बूथों का निर्धारण

महिंद्रा हॉलीडेज एंड रिसोर्ट इंडिया लिमिटेड के प्रबंध निदेशक सीईओ कविंदर सिंह ने सरकार की नीतियों को सराहा है। कहा कि हास्पिटेलिटी क्षेत्र में एक हजार करोड़ का निवेश उत्तराखंड में किया जाएगा। जुबिलेंट फार्माेवा लिमिटेड व ओबेरॉय समूह के अर्जुन एस भरतिया ने उत्तराखंड में अपनी भविष्य की निवेश योजनाओं पर चर्चा की।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में उत्तराखण्ड बेरोज़गार संघ के अध्यक्ष बॉबी ने युवाओं को राजनीतिक लड़ाई के लिए तैयार रहने को कहा

ओबरॉय समूह के कॉरपोरेट मामलों के अध्यक्ष आर. शंकर ने कहा कि राज्य में बढ़ते लग्जरी पर्यटन क्षमता का लाभ उठाने के लिए ओबरॉय समूह ने विभिन्न स्थानों का भ्रमण किया। ओबरॉय समूह देश की सबसे बड़ी लग्जरी हॉस्पिटेलिटी चेन में से एक है।

Ad