काठगोदाम रेलवे स्टेशन में GRP की मुस्तैदी से बच गयी महिला की जान, हैड कांस्टेबल की बहादुरी को सलाम

ख़बर शेयर करें -

काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर एक महिला की जिंदगी अपनी सतर्कता से जीआरपी के हेड कांस्टेबल ने बचा ली। कुछ पल की भी देर होती तो महिला के साथ अनहोनी हो सकती थी। दमुवाढूंगा के शिवपुरी निवासी आनंदी देवी (40) काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर पति मोहन राम के साथ भांजे और उसके परिवार को काठगोदाम-लखनऊ एक्सप्रेस में बैठाने पहुंचीं।

वह ट्रेन में सीट तक बैठाने पहुंच गईं। ट्रेन अपने नियत समय 11.15 पर हल्द्वानी के लिए चल दी। हड़बड़ाहट में आनंदी ने चलती ट्रेन से उतरने के कोशिश की, लेकिन ट्रेन के दरवाजे के पास वह लटक गईं। महिला को ट्रेन और प्लेटफार्म के बीच लटका देख जीआरपी जवानों ने ट्रेन की ओर दौड़ लगाई। हेड कांस्टेबल अनिल कुमार ने ट्रेन और प्लेटफार्म के बीच लटकी महिला का हाथ पकड़कर प्लेटफार्म पर खींचने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हुए।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में उत्तराखण्ड बेरोज़गार संघ के अध्यक्ष बॉबी ने युवाओं को राजनीतिक लड़ाई के लिए तैयार रहने को कहा

इस बीच ट्रेन ने गति बढ़ाई तो अनिल ने दौड़ लगाई और महिला को प्लेटफार्म पर सुरक्षित खींचने में कामयाब हो गए। इस बीच ट्रेन भी रुकी तो महिला के पति मोहन राम उतरे और पत्नी का हालचाल जाना। उन्होंने जीआरपी के जवान का आभार जताया। काठगोदाम जीआरपी थानाध्यक्ष रमेश सिंह नेगी ने बताया कि जीआरपी की मुस्तैदी से अनहोनी टल गई। महिला पूरी तरह सुरक्षित है।

Ad