नैनीताल रोड-एक तरफ ज़ायरीन दूसरी ओर श्रद्धालु, दोनों ओर से जोशीले धार्मिक नारे, बीच में पुलिस……पढ़िये फिर क्या हुआ……

ख़बर शेयर करें -

माहौल सौहार्दपूर्ण बना रहा

कोई फसाद न करना चाहे तो फसाद हो ही नहीं सकता। उत्तर प्रदेश के बरेली में रविवार को हिन्दु-मुस्लिम आमने-सामने थे। पुलिस की निगरानी थी। दोनों ही ओर से नारेबाजी भी हुई लेकिन माहौल सौहार्दपूर्ण बना रहा। दरअसल बरेली में उर्स-ए-रजवी के पहले दूल्हे मियां मजार के पास रविवार दोपहर चार बजे अजीबोगरीब स्थिति बन गई, जब उर्स में शामिल होने जायरीन का एक जत्था और गंगा महारानी शोभायात्रा में शामिल लोग आमने-सामने आ गए।

पुलिस और आरएएफ के जवानों ने मानव दीवार बनाकर दोनों जत्थों में शामिल लोगों को गुजारा ताकि सौहार्द बरकरार रहे। दरअसल भोजीपुरा के रम्पुरा से उर्स ए आला हजरत में शामिल होने जायरीन का एक जत्था नैनीताल रोड से अचानक आ गया।

यह भी पढ़ें 👉  इंस्टाग्राम पर महिला से दोस्ती की, मिला तो उम्र देखकर चकरा गया, महिला बोली जबरदस्ती कर रहा था

इधर, गंगा महारानी शोभायात्रा में पीछे रह गया एक जत्था जसौली दिशा से आ गया। सड़क की एक लेन आम वाहनों के लिए थी जिस पर पहले से जाम लगा था। ऐसे में एक ही लेन पर दोनों जत्थे आमने-सामने आने से पुलिसकर्मियों की सांस अटक गईं। दोनों ही ओर से युवा जोशीले धार्मिक नारे लगा रहे थे।

उस वक्त मौके पर मौजूद सीओ प्रथम, किला व बारादरी थानों के प्रभारियों ने त्वरित निर्णय लिया। पुलिस ने दोनों ओर मोर्चा लेकर लोगों को समझाया। वहीं आरएएफ के जवानों ने मानव श्रृंखला बनाकर एक-एक करके दोनों जत्थे गुजरवा दिए। पूरे वक्त लगातार बारिश होती रही जिसमें जवानों की वर्दी तरबतर थी। मौके पर मौजूद लोगों ने पुलिस और पैरामिलिट्री की सूझबूझ की सराहना की।

यह भी पढ़ें 👉  इंस्टाग्राम पर महिला से दोस्ती की, मिला तो उम्र देखकर चकरा गया, महिला बोली जबरदस्ती कर रहा था

आला हजरत के उर्स का आगाज सघन सुरक्षा बंदोबस्त के बीच हो गया। दोपहर के वक्त एसएसपी घुले सुशील चंद्रभान ने मथुरापुर सेंटर जाकर सुरक्षा और यातायात व्यवस्था का जायजा लिया। एसएसपी ने वहां फोर्स की तैनाती और डायवर्जन देखा। उर्स में देश-विदेश से जायरीन आए हैं। उर्स-ए-रजवी तीन दिन तक मनाया जाएगा।

Ad