जिलाधिकारी ने गौलापार में पिछले दो साल में हुईं ज़मीनों की रंजिस्ट्रियों का रिकॉर्ड मांगा, भौतिक सत्यापन और शपथपत्रों की जांच का निर्देश

ख़बर शेयर करें -

राजस्व प्राप्ति में वृद्धि व स्टैम्प चोरी पर अंकुश लगाने के सम्बंध में हल्द्वानी कैम्प कार्यालय में जिलाधिकारी वंदना ने अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। बैठक लेते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि सरकार के मुख्य राजस्व का स्त्रोत स्टैम्प ड्यूटी है। इसमें किसी प्रकार की चोरी न हो यह सभी सब रजिस्ट्रार का दायित्व है। उन्होंने समस्त सब रजिस्ट्रार को बैनामा से पूर्व भूमि के कॉर्डिनेट्स व केएमएल फाइल चौक कराने के निर्देश दिए जिससे यह सुनिश्चित हो जाए कि बैनामा के अनुसार ही भूमि की खरोद-फरोख्त की गई है, तथा स्टाम्प शुल्क में चोरी को रोका जा सके।

उन्होंने प्रत्येक माह के बड़े मूल्य के लेख-पत्रों के सत्यापन हेतु अपर जिलाधिकारी अशोक जोशी को निरीक्षण कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। बैनामा में गवाह सत्यापन के सम्बंध में जिलाधिकारी ने कहा की यह सुनिश्चित किया जाए कि भूमि की खरोद- फरोख्त में एक गवाह आवश्यक रूप से स्थानीय पहचान कर्ता हो जिससे बाद में फ्रॉड के कारण होने वाली समस्याओं से पहले ही बचा जा सके। जिलाधिकारी ने कहा कि अधिकांशतः देखा गया है कि एक खेत नम्बर से शपथ पत्र लगाकर एक ही साइज के विभिन्न बेनामा किये जाते हैं जो कि रेरा का उल्लंघन है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में उत्तराखण्ड बेरोज़गार संघ के अध्यक्ष बॉबी ने युवाओं को राजनीतिक लड़ाई के लिए तैयार रहने को कहा

इस सम्बन्ध में सहायक महा निरीक्षक को पिछले दो वर्षों में गौलापार क्षेत्र में रेरा का शपथ पत्र लगाकर हुई रजिस्ट्री का डाटा उपलब्ध कराने व भौतिक सत्यापन एवं शपथपत्रों की जांच करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर सहायक महा निरीक्षक महेश द्विवेदी, सब रजिस्ट्रार रामनगर प्रताप सिंह रावत, हल्द्वानी दिनेश चौहान, नैनीताल रमा तिवारी, धारी भीम सिंह उपस्थित थे।

Ad