haldwani मेडिकल कॉलेज के एनेस्थिसिया विभाग में पेन मैनेजमेंट पर कार्यशाला

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी के एनेस्थिसिया विभाग द्वारा दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें लाइलाज बीमारियों में पेन मैनेजमेंट पर देशभर के विशेषज्ञ चिकित्सकों ने महत्वपूर्ण जानकारी दी। इसके साथ ही डा. सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय में एनेस्थिसिया विभाग की ओपीडी में डा. नवीन मल्होत्रा के दिशा निर्देशन में लम्बे समय से दर्द से पीढ़ित मरीजों को परामर्श दिया गया। कार्यशाला में डा. दीपक मालवीय ने कहा कि दुनिया में 30 साल से अस्तित्व में आई यह पद्धति अब देश में भी कापफी प्रचलित हो गई है।

दर्द से पीड़ित मरीजों और उनके परिजनों को सुखद अनुभूति कराने के लिए यह पद्धति अधिक कारगर है। कैंसर पक्षपात हृदय संबंधी दिक्कतें, गुर्दे फेल होने जैसी गंभीर बीमारियों से ग्रस्त मरीजों के परिजनों को भी इलाज के लिए भटकना पड़ता है और पीड़ादायक स्थिति हो जाती है। इसी पीड़ा को कम करने के लिए पैलिएटिव पद्धति की शुरुआत हुई है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी के बनभूलपुरा में कर्फ्यू को लेकर बड़ी खबर, ज़िलाधिकारी का आदेश

कार्यशाला में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने कहा कि पैलिएटिव केयर एक तरह की चिकित्सा पद्धति है जिसमें कैंसर एड्स जैसे गंभीर रोगों से जूझ रहे मरीजों की देखभाल की जाती है। अस्पताल नर्सिंग होम समेत सभी जगह गंभीर रोगों से ग्रसित मरीजों का इलाज किया जा सकता है। चिकित्सा क्षेत्र से जुड़ी समस्त शाखाओं को पैलिएटिव केयर से जोड़ने की जरूरत है। भारत देश में अभी लोगों को पैलिएटिव केयर के बारे में काफी जागरूक करने की जरूरत है। इस अवसर पर डा. गीता भंडारी विभागाध्यक्ष एनेस्थिसिया विभाग, डा. हेम भट्ट, डा. दीप चिलाना समेत संकाय सदस्य उपस्थित थे।

Ad