हल्द्वानी में विधायक ने बुलाई अधिकारियों की आपात बैठक, कहा-‘जले में नमक पड़ने’ जैसे हालात हो गए हैं, अल्टीमेटम भी दिया

ख़बर शेयर करें -

हल्द्वानी। महानगर में विकराल होती बिजली-पानी की समस्या पर विधायक ने भी गंभीरता दिखाई है। विधायक ने शुक्रवार को अपने आवास पर अधिकारियों की आपात बैठक बुलाई और अध्किारियों को अल्टीमेटम दे डाला। बिजली, सिंचाई, जल संस्थान, पेयजल निगम सहित लोकनिर्माण विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों संग आपात बैठक कर संबंधित अधिकारियों को भयंकर गर्मी के मद्देनजर बिजली-पानी की व्यवस्था दुरुस्त करने के निर्देश दिये। विधायक सुमित हृदयेश ने कहा कि भयंकर गर्मी की वजह से लोग काफी परेशान है और उस पर बिजली-पानी का संकट ‘जले में नमक पड़ने’ जैसी स्थिति उत्पन्न हो रही है। हल्द्वानी वासियों द्वारा लगातार फोन पर और व्यक्तिगत मिलकर मुझे बिजली-पानी की समस्या के बारे में बताया जा रहा है।

समाचार पत्रों के माध्यम से भी लोगो की परेशानियों से रोजाना रूबरू होने को मिल रहा है। विधायक सुमित हृदयेश ने बिजली पानी की व्यवस्था को दुरुस्त करने हेतु संबंधित अधिकारियों को आपसी तालमेल के साथ-साथ स्थानीय जनता से सीधा संवाद कायम करने की सलाह के साथ हल्द्वानी क्षेत्र में व्याप्त बिजली-पानी की समस्याओं के स्थायी निदान हेतु कारगर योजनाओं पर कार्य करने हेतु आदेशित किया गया। विधायक सुमित हृदयेश ने कहा कि कांग्रेस सरकार के समय हल्द्वानी वासियों को कभी बिजली-पानी की समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता था। माताजी स्व. इंदिरा हृदयेश ने हल्द्वानीवासियों को हमेशा बिजली-पानी की समस्याओं से दूर रखा।

यह भी पढ़ें 👉  हिंदी पत्रकारिता दिवस पर प्रेस क्लब हल्द्वानी ने कराई गोष्ठी

हल्द्वानी विधानसभा को बिजली पानी की समस्याओं से निजात के लिये विधायक सुमित हृदयेश ने स्पष्ट शब्दों में संबंधित अधिकारियों को समयसीमा देते हुए निर्देशित किया की अगर समस्याओं का तवरित निदान नही हुवा तो जनता को साथ लेकर उग्र जनांदोलन किया जायेगा। बैठक में जिलाध्यक्ष राहुल छिमवाल, महानगर अध्यक्ष एडवोकेट गोविंद सिंह बिष्ट, जिला महामंत्री मलय बिष्ट, पूर्व पार्षद शकील सलमानी, पूर्व प्रधान नवीन पाण्डे, विधायक स्वास्थ्य प्रतिनिधि इशरत अली, युवा नेता प्रदीप नेगी, अमित रावत सहित लोकनिर्माण विभाग से अशोक चौधरी, विद्युत विभाग से प्रदीप बिष्ट, सिचाई विभाग से बीसी नैनवाल, जल निगम से ललित गौड़, जल संस्थान से रवि शंकर लोशाली मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

Ad