भारत ने वो कर दिखाया जो किसी देश ने नहीं किया, चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग करने वाला पहला देश बने हम, पढ़िये पीएम ने देशवासियों को क्या संदेश दिया

ख़बर शेयर करें -

चंद्रयान-3 मिशन के जरिए भारत ने आज इतिहास रच दिया। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के चंद्रयान-3 मिशन का लैंडर मॉड्यूल सफलता पूर्वक चंद्रमा की सतह पर उतर गया। लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान से युक्त लैंडर मॉड्यूल ने शाम छह बजकर चार मिनट पर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग की और इतिहास रच दिया।

इस सफलता के साथ भारत चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचने वाला दुनिया का पहला देश बन गया। इसके साथ ही भारत अमेरिका, चीन और पूर्व सोवियत संघ के बाद चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया। चंद्रमा की सतह पर अमेरिका, पूर्व सोवियत संघ और चीन सॉफ्ट लैंडिंग कर चुके हैं, हालांकि इनमें से कोई भी देश ऐसा नहीं है जिसकी सॉफ्ट लैंडिंग चंद्रमा के दक्षिणी धु्रवीय क्षेत्र में हुई है. चंद्रयान-3 के लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग में 15 से 17 मिनट लगे. चंद्रयान 3 को 14 जुलाई 2023 को दोपहर 2.30 बजे लॉन्च किया गया था।

यह भी पढ़ें 👉  कोविड में कोविशील्ड लगवाई थी क्या ? बहुत बड़ी और बहुत बुरी खबर सामने आई है, कंपनी ने भी कुबूल लिया

प्रधानमंत्री ने कहा देशवासियों के लिए यह क्षण नई ऊर्जा, नए विश्वास, नई चेतना का है… यह क्षण नवभारत के जयघोष का है… यह क्षण जीत के चंद्रपथ पर चलने का है… यह क्षण भारत के उदीयमान भाग्य के आह्वान का है… अमृतकाल की प्रथम प्रभा में सफलता की यह अमृतवर्षा हुई है, और आज हर भारतीय जश्न में डूब गया है…प्रधानमंत्री ने कहा, भारत की उड़ान चांद की कक्षा से बहुत आगे जाएगी, और अभी काफी कुछ हासिल करना है…

Ad