संसद घुसपैठ-खास तरह के जूते बनवाए, प्रधानमंत्री मोदी के लिए पर्चों पर लिखी थी ये बात

ख़बर शेयर करें -

संसद घुसपैठ मामले में पुलिस के हाथ नई जानकारी लगी है। पता चला है कि आरोपियों के जूते ‘स्मोक कैन’ छिपाने के लिए खास तरह से डिजाइन करवाए गए थे। घटना में शामिल आरोपी सागर ने लखनऊ के एक मोची से दो जोड़ी जूतों के सोल में 2.5 इंच गहरे गड्ढे बनवाए थे। इससे साबित होता है कि घटना पहले से प्लान की गई थी। खबर है कि आरोपियों के पास कुछ पोस्टर भी मिले हैं, जिनमें कथित तौर पर प्रधानमंत्री को ‘लापता’ और ‘अपराधी’ बताया गया है।

मामले में मास्टरमाइंड बताए जा रहे ललित झा समेत पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। चार आरोपियों सागर शर्मा, मनोरंजन डी, अमोल शिंदे और नीलम सिंह के ऊपर यूएपीए के तहत केस दर्ज हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  कोविड में कोविशील्ड लगवाई थी क्या ? बहुत बड़ी और बहुत बुरी खबर सामने आई है, कंपनी ने भी कुबूल लिया

पांचों प्रदर्शनकारी पहले भी संसद में प्रदर्शन करने के मकसद से दिल्ली आए थे, लेकिन तब उन्हें एंट्री पास नहीं मिले थे। जांचकर्ता ने बताया कि इस साल जून-जुलाई में मनोरंजन ने एक पास के जरिए संसद का दौरा किया था। फिर 13 दिसंबर को मनोरंजन और सागर स्पेशल जूतों में ‘स्मोक कैन’ छिपाकर संसद में घुसे। आरोपी अमोल शिंदे ने वो कैन लातूर से खरीदकर सागर शर्मा को दिए थे।

जानकारी के मुताबिक, चार प्रदर्शनकारियों ने खुलासा किया कि उन्होंने दोपहर 1 बजे संसद के अंदर और बाहर प्रदर्शन और नारेबाजी करने की योजना बनाई थी। उन्होंने पुलिस से कहा कि वो प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं ताकि सरकार महंगाई और गरीबी जैसे मुद्दों पर ध्यान दे सके।

यह भी पढ़ें 👉  वैक्सीन के सर्टिफिकेट से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फोटो और नाम गायब....वैक्सीन से जुड़ी दूसरी एक और बड़ी खबर यहां पढ़िये

एडिशनल पब्लिक प्रॉजीक्यूटर अतुल श्रीवास्तव और अखंड प्रताप सिंह ने अदालत में जानकारी दी कि आरोपियों के पास से कुछ पर्चे और बैनर बरामद किए गए हैं जिनमें कथित तौर पर प्रधानमंत्री को लापता और अपराधी के रूप में दिखाया गया था। आरोप लगाया कि चारों ने सांसदों को डराने और देश में अशांति पैदा करने के लिए संसद पर हमले की साजिश रची। 14 दिसंबर को चारों आरोपियों को सात दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है।

Ad