कौन हैं इकरा ? लंदन से कानून की पढ़ाई, भाई के जेल जाने के अगले दिन ही संभाली राजनीति की बागडोर

ख़बर शेयर करें -

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के चर्चित कैराना लोकसभा सीट पर इकरा के प्रदर्शन ने हर किसी को चौंका दिया है। इस सीट पर उन्होंने भाजपा प्रत्याशी प्रदीप चौधरी को तगड़ी पटखनी दी है। कैराना लोकसभा सीट पर वर्ष 1962 से लेकर अब तक 16 बार चुनाव हो चुका है। जिसमें भाजपा का दबदबा रहा है। लेकिन इस बार पासा पलट गया।

भाजपा ने इस सीट पर अब तक तीन बार जीत दर्ज की है, जबकि कांग्रेस दो और सपा दो, जनता दल दो बार जीत दर्ज कर चुकी है। इस बार इस सीट पर इकरा हसन समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर मैदान में थीं। आज मतगणना शुरू हुई तो शुरुआत में पिछड़ती नजर आईं लेकिन दोपहर बाद इकरा ने बढ़त बना ली जो अंत तक बरकरार रही।

कैराना सीट पर इकरा के टिकट होने के बाद से ही कैराना लोकसभा सीट पर नए समीकरण बन गए थे। वहीं, अखिलेश द्वारा कैराना लोकसभा सीट से इकरा हसन को प्रत्याशी बना दिए जाने के बाद भाजपा-बसपा और सपा में कांटे की टक्कर मानी जा रही थी।

यह भी पढ़ें 👉  हैदराबाद में ओवैसी को हरा देंगी माधवी लता? कौन आगे चल रहा है?

क्षेत्र की जनता न सिर्फ उनकी सादगी की कायल थी बल्कि उन्हें बेटी की तरह प्यार भी दिखाया। क्षेत्र की जनता ने उन्हें बंपर मतों से जिताकर यह भी दिखा दिया कि इस भूमि के लिए बेटियां भी बेटों से कम नहीं हैं। आगे जाने इकरा हसन के बारे में।

कौन हैं इकरा हसन?
इकरा हसन पिछले नौ वर्ष से कैराना क्षेत्र की राजनीति में सक्रिय हैं। वह पूर्व सांसद तबस्सुम हसन की बेटी हैं और नाहिद हसन उनके बड़े भाई हैं। इकरा हसन ने लंदन की यूनिवर्सिटी से कानून की शिक्षा हासिल की है।

पार्टी: सपा
प्रत्याशी: इकरा हसन
उम्र: 27 वर्ष
शिक्षा: दिल्ली विश्व विद्यालय से एलएलबी
पोस्ट ग्रेजुएशन: यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन से।
परिवारः मां तबस्सुम हसन और भाई नाहिद हसन।

लंदन में पढ़ाई के दौरान सीएए का विरोध कर आईं थीं सुर्खियों में आईं थीं इकरा
इकरा की शुरुआती शिक्षा भले ही कैराना में हुई हो, लेकिन उन्होंने 12वीं दिल्ली के क्वींस मेरी स्कूल से की थी। इसके बाद लेडी श्रीराम कालेज से ग्रेजुएशन किया। दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलबी की। इसके बाद उन्होंने इंटरनेशनल लॉ एंड पालिटिक्स में पोस्ट ग्रेजुएशन यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन से किया था।
यही नहीं वे पिछले कहा जाता है कि इकरा हसन राजनीति में बहुत मेहनत करती रही हैं। सोशल मीडिया पर भी उनकी सक्रियता देखने को मिलती है।

यह भी पढ़ें 👉  रायबरेली में राहुल गांधी भारी जीत की ओर, BJP उम्मीदवार दिनेश प्रताप पर इतने लाख से ज्यादा वोटों की बढ़त

भाई के जेल जाने के अगले दिन ही संभाली राजनीति की बागडोर
इकरा पूर्व सांसद रहे चौधरी अख्तर हसन की पौत्री और पूर्व सांसद रहे मुनव्वर हसन और तब्बसुम हसन की बेटी और नाहिद हसन की बहन हैं। पिछले काफी समय से इकरा हसन कैराना लोकसभा सीट पर चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई थीं।

गौरतलब है कि नाहिद हसन को 15 जनवरी 2022 को पुलिस ने कोर्ट में गैंगस्टर के मुकदमे में सरेंडर करने से पहले गिरफ्तार कर लिया था। भाई के जेल जाने के अगले ही दिन से इकरा हसन लगातार प्रचार-प्रसार में जुट गई थीं। उन्होंन हसन परिवार की राजनीति की बागडोर अपने कंधों पर ले ली थी।

Ad