हल्द्वानी- एमबीपीजी डिग्री कॉलेज में स्वच्छ भारत अभियान की कार्यशाला

ख़बर शेयर करें -

एम बी राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय हल्द्वानी के संगोष्ठी कक्ष में स्वच्छ भारत अभियान की कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यशाला के मुख्य अतिथि प्रोफेसर सी डी सूठा निदेशक उच्च शिक्षा, प्रोफेसर गोविंद पाठक सहायक निदेशक उच्च शिक्षा रहे, विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर बी आर पंत तथा अतिथि व्याख्याता प्रोफेसर चारु चंद्र ढोडियाल रहे कार्यशालय की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य प्रोफेसर एन एस बनकोटी तथा कार्यशाला की समन्वयक डॉक्टर उर्वशी पांडे थी । कार्यशाला का संचालन डॉक्टर नवल किशोर लोहनी द्वारा किया गया।

कार्यशाला का शुभारंभ दीप प्रज्वलन कर सरस्वती वंदना तथा स्वागत गीत के साथ हुआ ।
प्राचार्य एन एस बनकोटी द्वारा सभी मुख्य अतिथियों तथा विशिष्ट अतिथियों का स्वागत उद्बोधन करने के साथ डॉक्टर उर्वशी पांडे को आईसीएसएसआर द्वारा प्राप्त बजट के द्वारा स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत उनके द्वारा किए गए प्रोजेक्ट शोध कार्य के लिए बधाई दी ।
कार्यशाला की सहायक समन्वयक डॉ ज्योति टम्टा द्वारा जनजातीय क्षेत्रों में स्वच्छ भारत मिशन के सर्वे सर्वेक्षण यात्रा के वृतांत के बारे में बताया गया।
डाॅ0 उर्वशी पांडे द्वारा शोध कार्य के बारे में तथा रिसर्च एसोसिएट व रिसर्च अस्सिटेंट रिचा पंत तथा पूजा शर्मा द्वारा शोध प्रोजेक्ट कार्य की फाइंडिंग्स के बारे में अवगत कराया गया ।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में धूमधाम से मनाई जा रही है ईद, लोगों ने गले मिलकर दी मुबारकबाद

प्रथम तकनीकी सत्र में प्रोफेसर चारु ढोडियाल द्वारा स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्र तथा शहरी क्षेत्रों को 7000 करोड़ तथा 5000 करोड़ की धनराशि की विभिन्न योजनाओं के संचालन के विषय में जानकारी दी ।

द्वितीय तकनीकी क्षेत्र में प्रोफेसर बी आर पंत द्वारा शोध परियोजना में जनजातीय क्षेत्र के अध्ययन हेतु प्रश्नोत्तरी के माध्यम से क्वालिटेटिव तथा क्वानटेटिव रिसर्च कर आउटकम लेने की बात कही गई ।

प्रोफेसर गोविंद पाठक द्वारा स्वच्छ भारत अभियान में जन सहभागिता तथा सरकारों के बीच समन्वय की स्थिति की विवेचना की गई तथा इस अवसर पर उनके द्वारा अवगत कराया गया कि राज्य सरकार शोध के क्षेत्र में केंद्र तथा राज्य सरकार की योजनाओं पर आधारित शोध परियोजनाओं के लिए बजट आवंटन कर रही है जिसके लिए शोध छात्र-छात्राओं को अपनी शोध परियोजना प्रारूप बनाकर मुख्यमंत्री शोध छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत प्रस्ताव शासन को उपलब्ध कराना है इसके साथ ही उनके द्वारा अवगत कराया गया कि आगामी सत्र से मेरिट के आधार पर राज्य सरकार द्वारा विभिन्न विश्वविद्यालय के 50 शोध छात्र-छात्राओं को ₹5000 प्रति माह की छात्रवृत्ति 3 वर्ष तक प्रदान किए जाने का प्रावधान भी है ।
इस अवसर पर समापन सत्र में बोलते हुए निदेशक उच्च शिक्षा प्रोफेसर सी डी सूठा द्वारा स्वच्छता को संस्कृति के रूप में अपनाने पर बल देने की बात कही ।

यह भी पढ़ें 👉  चोर इमोशनल हो गए......सोना नहीं मिला तो माफी मांग ली (हल्द्वानी का अजीब मामला)

इस अवसर पर प्रोफेसर अनीता जोशी प्रोफेसर सी एस नेगी प्रोफेसर कमला पंत प्रोफेसर उषा जोशी , प्रोफेसर सी एस जोशी प्रोफेसर संजय खत्री ,प्रोफेसर सुरेश टम्टा, प्रोफेसर टी सी पांडे आदि मौजूद रहे ।

Ad